Hasin bankar gunah kiya

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो क्या हमको भी तबाह किया,

पेश किया जब ग़ज़लों में हमने उनकी बेवफ़ाई को,

औरों ने तो क्या उन्होने भी वाह-वाह किया.