सारे सपने तोड़कर बैठे हैं,
दिल का अरमान छोड़कर बैठे हैं,
ना कीजिये हमसे वफ़ा की बातें,
अभी-अभी दिल के टुकड़े जोड़कर बैठे हैं..