तुम्हारी ज़ुल्फ़ों के साये…

 

तुम्हारी ज़ुल्फ़ों के साये में शाम कर लूंगा,

सफर इस उम्र का पल में तमाम कर लूंगा।