Yes hi mohabbt

जब खामोश आँखो से बात होती है

ऐसे ही मोहब्बत की शुरुआत होती है

तुम्हारे ही ख़यालो में खोए रहते हैं

पता नही कब दिन और कब रात होती है