मोहब्बत की झलक…

Posted on

कयामत के रोज फरिश्तों ने पूछा
तुझे आखिरी ख्वाहिश में क्या चाहिए,
मैं मुस्कुराते हुए बोला
मेरी मोहब्बत की मुकम्मल झलक चाहिए।