शायरी से इस्तीफ़ा…

Posted on

शायरी से इस्तीफ़ा दे रहा हूँ साहब,
जब दर्द हमको सहना है…
तो उसका तमाशा क्यों बनाना।