Tu mere malal 

मेरी बर्बादी पर तू कोई मलाल ना करना,

भूल जाना मेरा ख्याल ना करना,

हम तेरी ख़ुशी के लिए कफ़न ओढ़ लेंगे,

पर तुम मेरी लाश ले कोई सवाल मत करना!

Dukh dekar tumne 

दुःख देकर सवाल करते हो,

तुम भी जानम कमाल करते हो,
देख कर पूछ लिया हाल मेरा,

चलो कुछ तो ख्याल करते हो,
शहर-ए दिल में ये उदासियाँ कैसी,

ये भी मुझसे सवाल करते हो,
मरना चाहें तो मर नहीं सकते,

तुम भी जीना मुहाल करते हो,
अब किस-किस की मिसाल दूँ तुम को,

हर सितम बे-मिसाल करते हो। -मिरजा गालि़ब साहब

Tere gam me

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ,

जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ,

मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह,

तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ।

मोहब्बत का बादल…

मोहब्बत का घना बादल बना देता तो अच्छा था,
मुझे तेरी आँख का काजल बना देता तो अच्छा था,
तुझे पाने की ख्वाइश अब जीने नहीं देती,
खुदा तू मुझे पागल बना देता तो अच्छा था।